क्या आप जानते है की शेयर क्या होता है, Share Market Kya Hai in Hindi अगर नहीं तो कोई बात नहीं आज की इस लेख में हम यही जानेंगे की शेयर क्या होता है इससे पहले हाय हेल्लो नमस्कार दोस्तों आप सभी का स्वागत है हमारे वेबसाइट bebicrypto पर अगर आप क्रिप्टो करेंसी और शेयर मार्केट से जुडी जानकारी पढने में रूचि रखते है तो आप हमारे वेबसाइट पर visit कर सकते है.

शेयर क्या है? (Share Kya Hai)

व्यवसाय और निवेश में शेयर का बड़ा चर्चा किया जाता है की शेयर क्या होता है शेयर को हिंदी में अंश कहते है अर्थात टुकरा स्टॉक मार्केट में शेयर का अर्थ किसी भी कंपनी में अपनी हिस्सेदारी को खरीदना शेयर कहलाता है.

स्टॉक मार्केट क्या है? (Share Market Kya Hai in Hindi)

शेयर मार्केट दो शब्दों से मिलकर बना है पहला शेयर जिसमें शेयर का मतलब एक दूसरे के साथ किसी प्रोडक्ट को इधर से उधर करना तथा मार्केट का मतलब जहां पर खरीदने के लिए तथा बेचने के लिए वह प्रोडक्ट AVILABLE हो उसे हम शेयर मार्केट कहते हैं अगर सामान्य शब्दों में कहूं तो जहां हम किसी किसी भी कंपनी के शेयर को खरीदते है और उसी शेयर को सही समय आने पर भी उसे शेयर मार्केट कहते हैं.

शेयर क्या होता है? (Share Kya Hota Hai)

किसी कंपनी के कुल स्वामित्व लाखो-करोडों टुकरे में बंटे होते है स्वामित्व का हर एक टुकरा या अंश शेयर कहलाता है. जिसके पास जितना ज्यादा टुकरा उतनी ही ज्यादा उसकी उस कंपनी में हिस्सेदारी इस हिस्सेदारी को लोग खरीद और बेच भी सकते है भारत में दो सबसे बड़ी स्टॉक एक्सचेंज है पहला बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज दूसरा नेशनल स्टॉक एक्सचेंज

शेयर होल्डर किसे कहते है? (Share holder kise khate hai)

किसी भी कंपनी के हिस्सेदारी को एक शेयर होल्डर ही खरीदता है और बड़े उम्मीद के साथ लंबे समय तक होल्ड करके रखते है शेयर होल्डर कहलाता है. एक शेयर होल्डर ही होता है जो शेयर को खरीदता है और मुनाफा कमाता है  अगर आसान शब्दों में कहू तो जो व्यक्ति किसी कंपनी या संस्थान के हिस्सेदारी को खरीदता है वह कंपनी या संस्थान के हिस्सेदार बन जाते है अर्थात शेयर का मालिक बन जाते है जो व्यक्ति उस शेयर को खरीदता है वो शेयर होल्डर कहलाता है

शेयर होल्डर किसी कंपनी या संस्थान के शेयर को खरीद कर बड़ी उम्मीद के साथ उस शेयर को होल्ड करके रखता है और जब शेयर का मूल्य शेयर होल्डर के उम्मीद के अनुसार हो जाता है तो शेयर होल्डर मुनाफा में बेच देता है.

कंपनी क्यों करती है अपनी शेयर जारी

आपको में एक उदाहरण के द्वारा समझाता हु माना की आपकी कंपनी xyz है जो T-Shirt बनाती है जिसको शुरु करने में 1Cr रुपया लगा और वह xyz कंपनी एक महीने में 10000 टी-शर्ट बनाती है जो लोगो के द्वारा काफी पसंद किए जाते है उन टी-शर्ट का डिमांड मार्केट में काफी ज्यादा है तो कम्पनी के एक प्लांट से उतना टी-शर्ट नहीं बन पाता है तो कंपनी एक और प्लांट खोलना चाहती है जिसके लिए उन्हें फिर से एक करोड़ चाहिए तो वह कंपनी दो काम कर सकती है पहला अपने फ्रेंड, फेमिली या बैंक से कर्ज ले सकती है और दूसरा पब्लिक से पैसा ले सकती है, जब कंपनी पब्लिक से पैसा लेती है तो पब्लिक को कंपनी का शेयर दिया जाता है यही कारण है की कंपनी अपनी शेयर को मार्केट में इशू करती है

शेयर के प्रकार (Types of Share)

वैसे तो शेयर के बहूत से प्रकार है परन्तु मुख्यतः शेयर के तीन प्रकार होते है

इक्विटी शेयर Equity Share : इक्विटी शेयर को सामन्य शेयर के रूप में जाना जाता है ये शेयर केआप प्रकार में से एक है  स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टेड कंपनी जब अपना शेयर मार्केट में इशू करती है तो उन शेयर को इक्विटी शेयर कहा जाता है

अन्य और शेयर की तुलना में इक्विटी शेयर पर सबसे ज्यादा इन्वेस्ट और ट्रेडिंग किए जाते है क्योकि शेयर लगभग सभी कंपनी के द्वारा इशू किए जाते है

वरीयता शेयर : शेयर बाजार में इक्विटी शेयर के बाद परेफरेंस शेयर का नाम आता है वैसे इक्विटी शेयर और परेफरेंस शेयर में ज्यादा अंतर नहीं है क्योकि ये दोनों शेयर ही है परन्तु कुछ बाते है जो इक्विटी शेयर को परेफरेंस शेयर से अलग करती है जैसे शेयर होल्डर कभी भी कम्पनी के मीटिंग में वोटिंग नहीं कर सकता है  

DVR (Differential Voting Rights) : इस शेयर की मात्रा बाजार में कम होती है वोट राईट कम होती है इसी वजह से DVR शेयर में मूल्य कम होते है

शेयर कैसे ख़रीदे (Share Kaise Kharide)

किसी भी स्टॉक में निवेश करने के लिए आपके पास Demate Account होना आवश्यक है demate अकाउंट आप किसी भी ब्रोकर की सहायता से खुलवा सकते है तभी आप किसी भी कंपनी में निवेश कर पाएंगे

Demat Account क्या है? (What is Demat Account in Hindi)

जब हमें किसी भी कंपनी का स्टॉक खरीदना होता है तो हम सीधे कंपनी पर इन्वेस्ट नहीं कर सकते है किसी ब्रोकर की सहायता से इन्वेस्ट करना होता है आप से कुछ वर्ष पहले जब इन्टरनेट उतना पोपुलर नहीं था तब किसी भी कंपनी के शेयर को खरीदने के लिए चार से पांच माह लग जाता था परन्तु आज जब हमारा पूरा प्लानेट डिजिटल हो रहा है गया है जहाँ एक शेयर को खरीदने के लिए 4 से 5 माह लगते थे वही आज कुछ मिनटों में किसी भी कंपनी के शेयर को खरीद और बेच सकते है

आज बहूत सारे मार्केट में ब्रोकर है जो demat account खोल देते है जिसमे कुछ फ्री होते है तो कुछ चार्ज करते है जिनका लिंक नीचे दिया गया है जहाँ से आप demat account खोल सकते है

शेयर को हिंदी में क्या कहते है?

शेयर को हिंदी में अंश कहते है ये किसी भी कंपनी के कुल पुंगी का एक छोटा सा भाग होता है

शेयर से क्या होता है? (Share Market Kya Hai in Hindi?)

शेयर का अर्थ यहं ये नहीं है की की किसी भी सोशल मिडिया में किसी विडियो को शेयर करना स्टॉक मार्केट में शेयर का अर्थ हिस्सेदारी होता है  जब भी कंपनी के कुल भागीदारी में कुछ टुकरा खरीदते है तो हमें उस कंपनी का हिस्सेदार बनाया जाता है जितनी ज्यादा शेयर उतने ज्यादा हिस्सेदारी

शेयर कब ख़रीदे और कब बेचे

बहूत सारे लोग यह करते है की जैसे ही मार्केट खुला वैसे ही शेयर खरीद लेते है और जैसे ही मार्केट बंद होने वाला होता है शेयर बेच देते है वैसे इस प्रोसेस को intraday कहा जाता है ऐसे में आप  छोटे प्रॉफिट तो कमा लेंगे परन्तु बड़े प्रॉफिट नहीं कमा पाएंगे एक सभी इन्वेस्टर का काम होता है की शेयर कम मूल्य पर खरीद कर उसे लंबे समय तक होल्ड करके रखना और जब उस शेयर का मूल्य ज्यादा हो जाए तो उसे सेल कर देना

शेयर कैसे चुने

एक सही शेयर को चुनना अति आवश्यक है क्योकि एक शेयर ही आपको प्रॉफिट दिला सकता है एक सही शेयर को चुनने के लिए आप नीचे लिए गए बातों को ध्यान में रखे

अंतिम विचार : (Share Market Kya Hai in Hindi?)

आसा करता हु की इस लेख में बताया गया बात आपको समझ आया होगा मेरा यही कोशिस कर रहता है की एक ही लेख में किसी भी टॉपिक्स के उपर सारी जानकारी दे दु वैसे इस पोस्ट में हमने बताया है की शेयर क्या होता है (What is Share Market in Hindi?), शेयर मार्केट को हिंदी में क्या कहते है और बहूत कुछ आपको यह पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसे अपने सोशल मीडिया ग्रुप में जरुर शेयर करे

Share now

Leave a Comment